WFP-भारत के ‘अनाज एटीएम’ को नवाचार पुरस्कार

जर्मनी में पिछले सप्ताह, वर्ष 2022 के WFP नवाचार पुरस्कार प्रदान किये गए, जिनमें शीर्ष पाँच विजेताओं में भारत में WFP द्वारा निर्मित ‘अन्नपूर्ति’ यानि ‘GrainATM’ भी शामिल है. अन्नपूर्ति एक स्वचालित वितरण मशीन है, जो हर एक स्थान पर, तेज़ी व सटीकता के साथ, लोगों को भोजन सामग्री वितरण करने में मदद करेगी.

'अन्नपूर्ति' नाम है - अनाज का वितरण करने वाली एटीएम मशीन का जो भले ही अवधारणा में सरल प्रतीत हो, लेकिन इससे लोगों को चावल, गेहूँ और अनाज जैसी वस्तुएँ, चतुराई भरे नवाचार से, सटीक मात्रा में, तेज़ी व स्वच्छता से पहुँचाने में मदद मिल रही है.

एक स्वचालित सामग्री वितरण मशीन के रूप में, यह GrainATM -अ न्नपूर्ति, उपभोक्ताओं को उनकी चुनी हुई सामग्री देने से पहले, बायोमेट्रिक द्वारा सत्यापन करती है. ATM की ही भाँति, चौबीसों घण्टे अनाज तक पहुँच सुनिश्चित करने वाली इस मशीन से, लोगों को पूर्ण आबण्टित मात्रा प्राप्त होती है. 

समस्या व समाधान

भारत में दुनिया के सबसे बड़े खाद्य-आधारित सुरक्षा जालों में से एक मौजूद है, जिसके तहत उचित मूल्य की पाँच लाख से अधिक दुकानों (Fair Price Shops) के नेटवर्क के ज़रिये, हर महीने 81 करोड़ 30 लाख लोगों को रियायती दामों पर अनाज उपलब्ध कराया जाता है.

मौजूदा व्यवस्था के तहत, एफ़पीएस ऑपरेटर हाथों से अनाज का वज़न और वितरण करते हैं. लेकिन इसमें अनेक समस्याएँ हैं. इसके लिये लोगों को लम्बे समय तक क़तार में लगना पड़ता है, अनाज के गिरकर बर्बाद होने की प्रबल सम्भावना रहती है, और कई बार लोगों को उनके हिस्से का अनाज प्राप्त नहीं हो पाता है.

इसी समस्या के समाधान हेतु, भारत में WFP ने "अन्नपूर्ति" मशीन विकसित की, जिससे बायोमैट्रिक प्रमाणीकरण के बाद, प्रत्येक लाभार्थी को चयनित अनाज (गेहूँ, चावल या बाजरा), उचित मात्रा में वितरित होता है.

अन्नपूर्ति की त्रुटि दर केवल 0.01 प्रतिशत है, और वो पाँच मिनट में, एक या दो तरह के 50 किलोग्राम अनाज वितरण करने की क्षमता रखती है. भण्डारण इकाई समेत यह पूरी मशीन मॉड्यूलर है यानि उपलब्ध जगह के हिसाब से आसानी से गठित की जा सकती है.

इस मशीन को, ऊर्जा कुशलता के साथ खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये केवल 0.6 वाट प्रति घण्टे की ख़पत के लिये डिज़ाइन किया गया है. ख़ास बात यह है कि इसे स्वचालित री-फ़िलिंग के लिये सौर पैनलों, इनवर्टर बैटरी और लिफ़्ट से भी जोड़ा जा सकता है.

आगे का रास्ता

भारत में WFP के आपूर्ति श्रृंखला व सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) यूनिट के प्रमुख, अंकित सूद बताते हैं, "...अन्नपूर्ति' में, आपात स्थिति के दौरान खाद्यान्न वितरण, छोटे किसानों के लिये बाज़ारों तक पहुँच बढ़ाने और खाद्य-आधारित सुरक्षा जाल बढ़ाने के लिये उपयोग करने की क्षमता मौजूद है."

भारत सरकार और WFP इनोवेशन एक्सेलेरेटर के सहयोग से तैयार की गई इस अनाज एटीएम या अन्नपूर्ति मशी का, वर्तमान में, हरियाणा और ओडिशा में दो स्थानों पर उचित मूल्य की दुकानों में परीक्षण किया जा रहा है.

2022 के अन्त तक, विश्व खाद्य कार्यक्रम, इस अनाज एटीएम को 3 लाख से अधिक लोगों तक पहुँचाने का लक्ष्य रखता है.

WFP नवाचार पुरस्कार

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) नवाचार पुरस्कार, उन 120 से अधिक देशों व क्षेत्रों में उत्कृष्ट नवाचारों को सम्मानित करने के लिये स्थापित किए गए थे, जहाँ WFP काम करता है.

WFP नवाचार परामर्श समूह द्वारा प्रविष्टियों की समीक्षा के बाद, 2022 के पाँच विजेताओं की घोषणा, गुरूवार को जर्मनी के मन्यूनिख़ शहर स्थित, डब्ल्यूएफ़पी इनोवेशन एक्सेलेरेटर के वार्षिक वैश्विक प्रबन्धन बैठक (Global Management Meeting (GMM)) में की गई.

इनोवेशन एक्सेलेरेटर के माध्यम से, WFP डिजिटल नवाचार में अभूतपूर्व प्रगति का लाभ उठा रहा है - जैसे कि मोबाइल तकनीक, कृत्रिम बुद्धिमत्ता, बड़ा डेटा और ब्लॉकचेन. साथ ही, नए व्यवसायिक मॉडल्स के ज़रिये, दुनिया भर में भुखमरी का सामना करने वाले समुदायों की सेवा करने के तरीक़े बदलने में मदद मिल रही है.

इनोवेशन पुरस्कार, नवोन्मेषी समाधानों के साथ-साथ उन लोगों को भी मान्यता देते हैं जो 2030 तक ‘Zero Hunger’ हासिल करने के WFP के समग्र लक्ष्य में बेहतरीन योगदान दे रहे हैं.

अन्य विजेता

इस पुरस्कार के अन्य विजेता रहे – सीरिया, इराक़, इथियोपिया व दक्षिण सूडान में WFP के कार्यालयों की आपर्ति श्रृंखला की तकनीकी व पोषण डिवीज़न, OPTIMUS, पोषण में सुधार के लिये WFP पाकिस्तान की ‘चक्की,’ यूक्रेन व मालडोवा में WFP कार्यालयों की दूर से ही, तेज़ नक़दी हस्तान्तरण सेवा और ज़ाम्बिया व हेती में WFP कार्यालयों द्वारा स्थापित डिजिटल भुगतान योजना – plugPLAY. 

Share this story