2022 के जनसंख्या पुरस्कार - नामीबिया की एक सांसद व इण्डोनेशिया के परिवार नियोजन बोर्ड को

संयुक्त राष्ट्र की यौन व प्रजनन स्वास्थ्य एजेंसी - UNFPA ने सोमवार को अपने 2022 के संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या पुरस्कार के विजेताओं की घोषणा की, जिनमें व्यक्तिगत पुरस्कार, नामीबिया की एक युवा पथ-प्रदर्शक सांसद को दिया गया है, जबकि संस्थागत पुरस्कार इण्डोनेशिया के राष्ट्रीय जनसंख्या और परिवार नियोजन बोर्ड को दिया गया.

व्यक्तिगत पुरस्कार विजेता हैं - वर्तमान में नामीबिया की उप सूचना मंत्री, संसद सदस्या एम्मा थियोफ़ेलूस, जो यह पुरस्कार पाने वाली सबसे कम उम्र की विजेता भी हैं.

संस्थागत पुरस्कार विजेता है इण्डोनेशिया की एक ग़ैर-सरकारी एजेंसी BKKBN जो राष्ट्रीय नीतियाँ बनाने, परिवार नियोजन के कार्यक्रम लागू करने और जनसंख्या सम्बन्धी विभिन्न आयामों में विशेषज्ञों का मार्गदर्शन करती है.

महिला सशक्तिकरण 

एम्मा थियोफ़ेलूस को नामीबिया में, उनके महिला सशक्तिकरण और किशोर यौन व प्रजनन स्वास्थ्य की पैरोकारी कार्यों को पहचान मिली. 

1996 में जन्मी एम्मा अफ़्रीका की सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्रियों में से एक हैं. 
उन्होंने देश के युवाओं को सीधे सम्बोधित करने के लिये, अपने युवा-अनुकूल दृष्टिकोण और यौन व प्रजनन स्वास्थ्य की पैरोकारी के अनुभव का उपयोग किया.

उन्होंने एक उप मंत्री के रूप में नामीबिया में कोविड-19 की रोकथाम के लिये, देश के सार्वजनिक संचार अभियान का नेतृत्व किया. वहीं एक सांसद के रूप में, उन्होंने स्त्री स्वच्छता उत्पादों को कर-मुक्त करने के क़ानून बनाने की पहल में अग्रणी भूमिका निभाई.

एम्मा थियोफ़ेलूस अपनी नियुक्ति से पहले, युवा नेतृत्व वाले एक क्षेत्रीय संगठन, AfriYAN के नामीबिया चैप्टर की सदस्य थीं, जहाँ उन्होंने किशोरियों में गर्भावस्था के ख़िलाफ़ लड़ने और युवा लोगों के यौन व प्रजनन स्वास्थ्य की रक्षा के अग्रणी प्रयासों का नेतृत्व किया.

इण्डोनेशिया के राष्ट्रीय जनसंख्या व परिवार नियोजन बोर्ड ने 2022 का यूएन जनसंख्या पुरस्कार जीता है.
UNFPA
इण्डोनेशिया के राष्ट्रीय जनसंख्या व परिवार नियोजन बोर्ड ने 2022 का यूएन जनसंख्या पुरस्कार जीता है.

परिवार नियोजन की सफलता की कहानी

यूएनएफ़पीए ने बताया कि संस्थागत श्रेणी में, BKKBN को, इण्डोनेशिया में सफल, अभिनव और अधिकार-आधारित परिवार नियोजन कार्यक्रमों के एक शानदार उदाहरण के रूप में मान्यता दी गई है, जो कोविड-19 महामारी के दौरान भी जारी रहा.

इस संस्था की अनेक उपलब्धियों में, जनसंख्या मुद्दों पर ग़ैर-सरकारी और आस्था-आधारित संगठनों से जुड़े हुए विशेषज्ञों को प्रशिक्षण और वृद्धों की देखभाल करने वाले परिवारों की सहायता के लिये कार्यक्रम विकसित करना शामिल है.

इसके अलावा इस संस्थान ने, हानिकारक प्रथाओं के ख़िलाफ़ लड़ाई में अहम भूमिका निभाई, जिससे 2019 में लड़कियों की शादी की न्यूनतम उम्र 16 से बढ़ाकर 19 करने में उसकी भूमिका प्रमुख रही.

यूएन जनसंख्या पुरस्कार 

1983 से संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या पुरस्कार के ज़रिये, व्यक्तियों और संस्थानों को जनसंख्या, विकास और प्रजनन स्वास्थ्य में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिये सम्मानित किया जाता है.

2022 के पुरस्कार के लिये, संयुक्त राष्ट्र में लेबनान के स्थाई प्रतिनिधि, अमल मुदल्ली की अध्यक्षता में, संयुक्त राष्ट्र के नौ अन्य सदस्य देशों के प्रतिनिधियों की समिति गठित की गई. 

संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक मामलों का विभाग (DESA), समिति में संयुक्त राष्ट्र महासचिव का प्रतिनिधित्व करता है, और यूएनएफ़पीए पुरस्कार का प्रबन्धन करता है.

Share this story