हेती: भीषण भूकम्प के कारण, हताहतों व तबाही का व्यापक दायरा

संयुक्त राष्ट्र ने बुधवार को कहा है कि हेती में, शनिवार, 14 अगस्त को 7.2 की तीव्रता वाला भूकम्प आने के चार दिन बाद, जान-माल के भीषण नुक़सान और हताशा व घबराहट का बढ़ता स्तर नज़र आ रहा है और मृतक संख्या लगभग दो हज़ार हो गई है.

देश के दक्षिणी-पश्चिमी हिस्से में शनिवार को भूकम्प आने के बाद, सोमवार को, एक चक्रवाती तूफ़ान ने भी विनाशकारी दस्तक दी. 

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने बताया है कि मृतक संख्या और सम्पत्ति व बुनियादी ढाँचे को हुए नुक़सान का सटीक अन्दाज़ा लगाया जा रहा है, इस बीच घायलों की संख्या पहले ही, 9 हज़ार 900 को पार कर गई है.

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता मामलों के कार्यालय (OCHA) का कहना है कि नागरिक प्रशासन एजेंसियाँ प्रभावित लोगों से उच्च सतर्कता बरतने का आग्रह कर रही हैं क्योंकि भारी बारिश और भूकम्प के झटकों के कारण कमज़ोर हुए ढाँचे, इमारतें, दीवारें व छतें दरकने व गिरने का अन्देशा है.

12 लाख लोग प्रभावित

यूनीसेफ़ का अनुमान है कि हेती में आए भूकम्प के कारण, लगभग 12 लाख लोग प्रभावित हुए हैं जिनमें क़रीब 5 लाख 40 हज़ार बच्चे हैं. लगभग 5 लाख बच्चों के लिये ठहरने का कोई स्थान उपलब्ध नहीं है या बहुत सीमित है. साथ ही पीने का साफ़ पानी, स्वास्थ्य देखभाल और पोषण तक भी पहुँच नहीं है.

आपराधिक हिंसा व असुरक्षा के हालात के बावजूद, यूनीसेफ़ के ट्रकों ने लेस कायेस में, तीन अस्पतालों में चिकित्सा सामग्री की आपूर्ति की है जो, अगले तीन महीनों तक, इस भूकम्प के प्रभावित लोगों का इलाज करने के लिये पर्याप्त होगी.

यूएन बाल एजेंसी और साझीदार एजेंसियाँ, अस्थाई शरण स्थल, शौचालय, स्नान घर और पीने का स्वच्छ पानी भी मुहैया करा रहे हैं.

यूनीसेफ़ का अनुमान है कि लगभग 3 लाख 85 हज़ार लोगों की, क़रीब 8 सप्ताह की तात्कालिक ज़रूरतें पूरी करने के लिये, तक़रीबन डेढ़ करोड़ डॉलर की रक़म की ज़रूरत होगी. इनमें, 5 वर्ष से कम उम्र के, लगभग एक लाख 67 बच्चे भी हैं.

94 स्कूल क्षतिग्रस्त

हेती में, यूनीसेफ़ प्रतिनिधि ब्रूनो माएस का कहना है कि देश के बच्चों को हमदर्दी और समर्थन व सहायता की ज़रूरत है. जिन अभिभावकों और शिक्षकों का सबकुछ तबाही की चपेट में आ गया है, उन्हें भी सहायता व समर्थन की आवश्यकता है.

स्कूल खुलने से कुछ ही सप्ताह पहले, यूनीसेफ़ और हेती के अधिकारियों ने शुरुआती आकलन किया है, जिसमें पाया गया हि 255 में से 94 स्कूल, या तो व्यापक रूप में क्षतिग्रस्त हुए हैं, या पूरी तरह ध्वस्त हो गए हैं.

यूनीसेफ़ प्रतिनिधि ने कहा, “बच्चों को, अब से केवल तीन सप्ताह के भीतर, सुरक्षित तरीक़े से, वापिस स्कूलों तक पहुँचाना, अभिभावकों, अध्यापकों और सरकार के लिये बहुत कठिन काम साबित होगा.” 

यूएन एजेंसियों द्वारा आपात सहायता

इस बीच, मानवीय सहायता कार्यों के लिये संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी (OHCHA) ने भूकम्प और तूफ़ान प्रभावित देश हेती में, आपदा आकलन और तालमेल के लिये, 11 सदस्यों वाला एक दल भेजा है.

यूएन एजेंसी ने त्वरित ताज़ा जानकारी में कहा है कि नुक़सान, अनुमान से कहीं ज़्यादा हुआ है, और तलाशी व बचाव अभियान आगे बढ़ने के साथ-साथ, हताहतों की संख्या बढ़ने की आशंका है.

संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने कहा है कि उसके ट्रक, सर्वाधिक प्रभावित इलाक़ों में, लोगों तक, सहायता पहुँचाने के लिये खाद्य सामग्री, पानी और स्वच्छता किटों से लदे हुए तैयार हैं.

इस बीच, अन्तरराष्ट्रीय प्रवासन एजेंसी (IOM), प्रभावित लोगों के लिये, आश्रय, ग़ैर-खाद्य सामग्री और शिविर प्रबन्धन में मदद करने के लिये, हेती के प्रशासन के साथ मिलकर काम कर रही है.

Share this story