हेती के विनाशकारी भूकम्प की दर्दनाक बरसी

हेती में 12 जनवरी 2010 को 7.0 की तीव्रता वाले विनाशकारी भूकम्प ने राजधानी पोर्ट ओ प्रिन्स को दहला कर रख दिया था. उस भूकम्प में लगभग दो लाख 20 हज़ार लोगों की मौत हुई थी, जिनमें संयुक्त राष्ट्र के 102 कर्मचारी भी थे जिनकी मौत, यूएन मिशन - MINUSTAH की इमारत, ढह जाने के कारण हुई थी.

हेती में संयुक्त राष्ट्र मिशन ने उस भूकम्प के तमाम पीड़ितों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए ना केवल उन लाखों लोगों को याद किया है जिन्होंने 12 वर्ष पहले आए उस भूकम्प में अपनी ज़िन्दगियाँ गँवा दी थीं, बल्कि उन हज़ारों लोगों कोभी अपनी स्मृतियों में स्थान दिया है जिन्हें दीर्घकालीन और स्थाई चोटों व शारीरिक क्षति का शिकार होना पड़ा है.

केवल 35 सेकण्ड की अवधि के लिये आए उस दहला देने वाले भूकम्प में, लगभग तीन लाख लोग घायल भी हुए थे, और क़रीब 15 लाख लोग बेघर हुए.

हेती में यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश के उप स्थाई प्रतिनिधि ब्रूनो लेमारक्विस ने, बुधवार को उन लोगों की याद में आयोजित एक समारोह में शिरकत की, जिनकी ज़िन्दगियाँ उस भूकम्प ने लील ली थीं.

सहनक्षमता

हेती में यूएन व्यवस्था ने अपने उन कर्मचारियों को भी श्रद्धांजलि देते हुए सम्मान के साथ याद किया है जिनका वजूद उस भूकम्प में ख़त्म हो गया था. संयुक्त राष्ट्र के बुधवार को जारी एक वक्तव्य में 12 जनवरी 2010 के दिन को, “देश के इतिहास का एक सर्वाधिक काला दिवस क़रार दिया है”.

वक्तव्य में कहा गया है कि उसके बाद से हेती ने, उस प्राकृतिक तबाही से उबरने के लिये, अपने लोगों की सहनक्षमता, अपने संस्थानों के कामकाज और अपने बहुत से मित्रों व समर्थकों का सहारा लेकर आगे बढ़ने की कोशिश की है.

स्मृति सन्देश, पूरी संयुक्त राष्ट्र व्यवस्था में वितरित और साझा किये गए हैं. 

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने एक ट्वीट सन्देश में कहा है कि “हम संगठन के कामकाज के ज़रिये हर दिन, हेती के पीड़ितों को याद करते हैं और उनकी विरासत को सम्मान देते हैं.”

संयुक्त राष्ट्र के आपदा राहत मामलों के कार्यालय – OCHA ने भी, हेती के “पुनर्बहाली, स्थिरता और समृद्धि के रास्ते” को अपने समर्थन व सहायता का नवीनीकरण किया है. 

अगस्त 2021 में भी, हेती के दक्षिणी क्षेत्रों में एक व्यापक भूकम्प आया था जिसमें दो हज़ार 200 से ज़्यादा लोगों की मौत हुई थी, और 12 हज़ार से ज़्यादा घायल हुए थे. उस भूकम्प में हज़ारों घर भी तबाह हो गए थे.

उसी तरह की मज़बूत सहनक्षमता और एकजुटता इस बार भी देखने को मिली और हेती के तमाम लोगों ने बहुत तेज़ी और प्रभावशाली तरीक़े से, एक और प्राकृतिक आपदा का सामना किया.

टिकाऊ भविष्य

यूएन कार्यालय द्वारा जारी एक वक्तव्य में संगठन ने, हेती के लोगों के साथ कन्धे से कन्धा मिलाकर काम जारी रखने का संकल्प दोहराया है, इसमें देश के मित्रों व समर्थकों का सहयोग भी शामिल है. 

वक्तव्य में कहा गया है कि संयुक्त राष्ट्र मौक़े पर मौजूद है और दीर्घकालीन पुनर्निर्माण का काम जारी रखे हुए है, जिसमें हेती के लिये एक टिकाऊ, समावेशी, और उज्ज्वल भविष्य लाने की ख़ातिर, समुदायों की सहायता करना भी शामिल है.

Share this story