लेबनान: बिगड़ते हालात के बीच राष्ट्रीय एकता सरकार के गठन का आहवान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने लेबनान में सामाजिक और आर्थिक हालात के तेज़ी से बिगड़ने पर गहरी चिन्ता व्यक्त करते हुए राजनैतिक नेताओं से तत्काल राष्ट्रीय एकता की सरकार बनाने का आहवान किया है.

यूएन प्रमुख के प्रवक्ता ने गुरूवार को एक बयान जारी किया है जिसमें, महासचिव गुटेरेश ने क्षोभ जताया है कि लेबनान के लोगों को हर दिन महंगाई, ईंधन, बिजली, दवा और यहाँ तक ​​कि साफ़ पानी के अभाव से जूझना पड़ रहा है.

"महासचिव ने लेबनान में सभी राजनैतिक नेताओं से एक प्रभावी राष्ट्रीय एकता सरकार बनाने का आग्रह किया है, जो तत्काल राहत प्रदान कर सके, लेबनान के लोगों के लिए न्याय और जवाबदेही सुनिश्चित कर सके, और बुनियादी सेवाओं को बहाल करने के लिए एक महत्वाकांक्षी व सार्थक प्रक्रिया का नेतृत्व कर सके."

उन्होंने कहा कि इससे स्थिरता बहाल करने, सतत विकास को बढ़ावा देने और एक बेहतर भविष्य के आशा सृजित करने में मदद मिलेगी.

लेबनान के लिये अन्तरराष्ट्रीय सहायता समूह ने सभी पक्षों से स्थानीय समुदाय की ज़रूरतों को तत्काल पूरा करने और देश के लिए आवश्यक सुधारों को लागू करने में सक्षम सरकार के गठन की दिशा में प्रयास करने का आहवान किया है.

आपदा चेतावनी

इससे पहले, संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने अपने एक बयान में चेतावनी जारी की थी कि तत्काल कार्रवाई के अभाव में, लेबनान में 40 लाख से अधिक लोगों को जल की गम्भीर कमी का सामना करना पड़ सकता है.

इनमें अधिकतर बच्चे और सबसे कमज़ोर परिवार हैं.

यूएन एजेंसी ने आगाह किया है कि लेबनान में जलजनित बीमारियाँ फैल सकती हैं, और कोविड-19 संक्रमण मामलों की संख्या में भी वृद्धि हो सकती है.

लेबनान की राजधानी बेरूत में 4 अगस्त 2020 को बन्दरगाह पर हुए धमाके में बड़ी तबाही हुई थी – 200 से ज़्यादा लोगों की मौत हुई, जिनमें छह बच्चे थे. 

इस घटना में साढ़े छह हज़ार से ज़्यादा लोग घायल हुए जिनमें एक हज़ार से ज़्यादा बच्चे हैं. 

Share this story