यूनीसेफ़ प्रमुख हैनरिएटा फ़ोर ने "भारी मन से" इस्तीफ़ा दिया

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ की अध्यक्ष हैनरिएटा फ़ोर ने अपने पति की देखभाल करने के लिये पूरा समय ख़र्च करने के इरादे से, मंगलवार को, अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. उनके पति किसी ऐसी तकलीफ़ से गुज़र रहे हैं जिन्हें, हैनरिएटा फ़ोर ने एक गम्भीर स्वास्थ्य मुद्दा बताया है.

हैनरिएटा फ़ोर ने कहा है कि ये एक कठिन निर्णय है, और उन्होंने यूनीसेफ़ के स्टाफ़ के लिये एक सन्देश में कहा है कि उनके लिये यूएन एजेंसी की कार्यकारी निदेशक का पद संभालना एक विशाल सम्मान रहा है.

उन्होंने यूनीसेफ़ की टीम से कहा है, “विश्व के बच्चों की ख़िदमत करना, प्राणपोषक व आश्चर्यजनक रूप से मोहक कार्य है. आप सभी ने बहुत ही अभूतपूर्व दौर में, शानदार उपलब्धियाँ हासिल की हैं, और अभी बहुत कुछ करने के लिये सामने है.”

उन्होंने कहा कि वो इस वर्ष कार्यकारी बोर्ड का चक्र पूरा होने और सितम्बर में यूएन आम सभा की बैठक होने तक अपने पद पर काम करती रहेंगी. साथ ही वो अपने उत्तराधिकारी का चयन होने तक, ये ज़िम्मेदारी संभाले रहेंगी.

हैनरिएटा फ़ोर ने कहा कि इस बीच वो यूएन एजेंसी की रणनैतिक योजना के विकास में नेतृत्व भूमिका निभाती रहेंगी.

साथ ही देशों में, कोविड-19 की वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ाने, दुनिया भर में बच्चों की सुरक्षित स्कूल वापसी में मदद करने पर भी ध्यान केन्द्रित रखेंगी.

उन्होंने ये भी कहा कि वो मानवीय और विकास के सन्दर्भ में भी एजेंसी के कामकाज को आगे बढ़ाना जारी रखेंगी ताकि हर एक बच्चे के लिये उज्जवल भविष्य सुनिश्चित किया जा सके.

हार्दिक सराहना

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने अपने प्रवक्ता स्तेफ़ान दुजैरिक द्वारा जारी एक वक्तव्य में कहा है कि वो हैनरिएटा फ़ोर के निर्णय की स्थिति को पूरी तरह समझते हैं और उनका इस्तीफ़ा “गहरे खेद” के साथ स्वीकार करते हैं. 

यूएन प्रमुख के वक्तव्य में कहा गया है, “महासचिव, यूनीसेफ़ का प्रेरणादायक नेतृत्व करने और दुनिया भर में बच्चों की ज़िन्दगियाँ बेहतर बनाने की ख़ातिर सेवाओं के लिये, हैनरिएटा फ़ोर के लिये हार्दिक सराहना व्यक्त करना चाहते हैं.”

“यूएन प्रमुख ने विशेष रूप से, कोविड-19 का मुक़ाबला करने के वैश्विक प्रयासों में यूनीसेफ़ की अति अहम भूमिका और शिक्षा के लिये नई कल्पना करने का ख़ास ज़िक्र किया.”

यूएन प्रमुख के वक्तव्य में कहा गया है कि हैनरिएटा फ़ोर के नेतृत्व की बदौलत, यूनीसेफ़ अब एक सार्वजनिक और निजी भागीदारी का व्यापक दायरे और प्रभाव वाला संगठन है और जो टिकाऊ विकास लक्ष्यों की प्राप्ति पर साहसिक तरीक़े से ध्यान केन्द्रित कर रहा है.

यूएन प्रमुख ने, दुनिया भर में बच्चों और युवाओं के सामने दरपेश अभूतपूर्व चुनौतियों का मुक़ाबला करने में, असाधारण काम करने के लिये, हैनरिएटा फ़ोर का शुक्रिया अदा किया.

लम्बा सार्वजनिक सेवा जीवन

हैनरिएटा फ़ोर, जनवरी 2018 में, यूनीसेफ़ की सातवीं निदेशक बनी थीं.

उन्होंने एक सार्वजनिक सेवक के रूप में, आर्थिक विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य, मानवीय सहायता और आपदा राहत क्षेत्रों में 40 वर्षों से भी अधिक समय तक काम किया है.

हैनरिएटा फ़ोर अमेरिका की अन्तरराष्ट्रीय विकास सहायता एजेंसी – USAID की पहली महिला प्रशासक बनीं. वो वर्ष 2007 से 2009 तक अमेरिका की विदेश सहायता विभाग की निदेशक भी रहीं.

हैनरिएटा फ़ोर ने, उससे पहले अमरिकी विदेश मंत्रालय में, कनिष्ठ विदेश मंत्री के रूप में भी काम किया.

Share this story