यूक्रेन: यूएन प्रमुख ने फिर लगाई मानवीय युद्धविराम की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने यूक्रेन में एक तत्काल मानवीय युद्धविराम लागू किये जाने की फिर पुकार लगाई है ताकि जीवनरक्षक मानवीय सहायता पहुँचाए जाने के साथ-साथ, जोखिम वाले इलाक़ों से लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला जा सके.

यूएन प्रमुख की ये अपील देश भर में अनेक स्थानों पर हुए हमलों के बाद की गई है जिनमें अनेक लोग हताहत हुए हैं और भारी तबाही भी हुई है.

यूएन प्रमुख के प्रवक्ता स्तेफ़ान दुजैरिक ने सोमवार को न्यूयॉर्क में कहा कि एंतोनियो गुटेरेश, युद्ध में बुरी तरह से तबाह हुए बन्दरगाह शहर मारियूपोल में लगातार भयावह स्थिति बने रहने पर भी बहुत चिन्तित हैं.

शान्ति वार्ता को मौक़ा दें

प्रवक्ता ने यूएन मुख्यालय में नियमित प्रेस वार्ता में कहा, “महासचिव तमाम पक्षों से तुरन्त और तत्काल मानवीय युद्धविराम लागू करने की पुकार लगाते हैं, जिससे मानवीय सहायता पहुँचाने के रास्ते सुरक्षित हो सकेंगे, आम नागरिकों को सुरक्षित स्थानों के लिये निकालने में मदद मिलेगी और जीवनरक्षक मानवीय सहायता और चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराई जा सकेगी.”

यूएन प्रमुख ने ये भी कहा है कि दीर्घकालिक शान्ति हासिल करने के लिये सार्थक बातचीत को कामयाब होने का मौक़ा देना होगा और संयुक्त राष्ट्र इस तरह के प्रयासों को समर्थन देने के लिये मुस्तैद है.

प्रवक्ता की प्रेस वार्ता से पहले, संयुक्त राष्ट्र के राहत मामलों के मुखिया मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने पत्रकारों को बताया कि यूक्रेन में फ़िलहाल तो एक मानवीय युद्धविराम की सम्भावना नज़र नहीं आ रही है, मगर कुछ सप्ताहों के भीतर ऐसा हो भी सकता है.

मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने अप्रैल के शुरू में, अपनी रूस और यूक्रेन यात्रा के बारे में जानकारी दी, जहाँ उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ, मानवीय युद्धविराम के बारे में संयुक्त राष्ट्र की आकांक्षाओं के बारे में बातचीत की थी. 

साथ ही, मानवीय सहायता कर्मियों और सामग्री के लिये सुरक्षित गलियारे मुहैया कराने के बारे में सूचना प्रणाली को बेहतर बनाने के बारे में भी बात हुई थी.

तुर्की की यात्रा

मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने कहा, “ज़ाहिर है कि अभी तक रूस की तरफ़ से मानवीय युद्धविराम के बारे में कोई जानकारी नहीं है. मैंने इस मुद्दे पर बहुत विस्तार से बातचीत की थी और वो इस तरह के प्रस्तावों पर, मुझसे सम्पर्क करने वादा करते रहे हैं.”

मार्टिन ग्रिफ़िथ्स इस सप्ताह तुर्की की यात्रा करने वाले हैं जहाँ वो रूस व यूक्रेन के बीच होने वाली बातचीत की मेज़बानी के बारे में, राष्ट्रपति रिसेप तैयप अर्दोग़ान के साथ मुलाक़ात करेंगे.

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने रविवार को राष्ट्रपति अर्दोग़ान के साथ बातचीत की थी और यूक्रेन में युद्ध से सम्बन्धित इस्ताम्बुल प्रक्रिया के लिये अपना समर्थन व्यक्त किया था. 

उन्होंने सहायता सामग्री के वितरण और लोगों को सुरक्षित निकाले जाने के लिये, मानवीय गलियारों की ज़रूरत को भी रेखांकित किया.

तुर्की की भमिका के बारे में मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने कहा कि वो ये देखकर प्रभावित हुए हैं कि तुर्की ने, बातचीत के लिये दोनों पक्षों को, ख़ुद को एक भरोसेमन्द और मूल्यवान मेज़बान के रूप में पेश किया है.

उन्होंने कहा कि वैसे तो रूसी और यूक्रेनियों के बीच कोई औपचारिक मध्यस्थता प्रयास नहीं चल रहे हैं, मगर तमाम सदस्य देशों में देखा जाए तो तुर्की के लोग सबसे नज़दीक पहुँचे हैं.

युद्धविराम की सम्भावनाओं के बारे में मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने यमन के उदाहरण की तरफ़ ध्यान दिलाया जहाँ युद्धरत पक्षों ने, दो महीने का युद्ध विराम समझौता लागू किया है.

उन्होंने कहा, “युद्धविराम तो अभी क्षितिज पर नज़र नहीं आ रहे हैं. मगर अगले कुछ सप्ताहों के दौरान उनकी सम्भावना नज़र आती है; हो सकता है उससे भी ज़्यादा समय लग जाए.”

“और ये दो चीज़ों पर निर्भर होगा: ज़ाहिर है युद्ध पर...और बातचीत पर.”

Share this story