यूक्रेन: ज़रूरतमन्दों की संख्या में वृद्धि के बीच, सहायता राशि बढ़ाने की भी अपील

संयुक्त राष्ट्र ने मंगलवार को कहा है कि मानवीय सहायता एजेंसियों ने युद्ध में भारी तबाही का सामना कर रहे यूक्रेन में मदद मुहैया कराने के लिये सवा दो अरब डॉलर की धनराशि के लिये एक नई अपील जारी की है, जिससे लगभग 90 लाख लोगों को सहायता और संरक्षा मुहैया कराई जाएगी.
,

इस अपील की धनराशि, यूक्रेन पर 24 फ़रवरी को रूसी हमला शुरू होने के बाद के दिनों में जारी की गई अपील से दोगुनी से भी ज़्यादा है.

मानवीय सहायता एजेंसियों ने ये ताज़ा अपील जारी करते हुए कहा है कि युद्ध शुरू हुए दो महीने गुज़र चुके हैं और ज़रूरतें लगातार बढ़ रही हैं, जबकि मानवीय सहायता के प्रयासों का दायरा और पैमाना दोनों ही व्यापक रूप में बढ़े हैं, और ये सब शुरुआती अपील के लिये मिली धनराशि की बदौलत सम्भव हो सका है.

यूक्रेन की आबादी चार करोड़ 40 लाख है, और युद्ध ने लगभग एक करोड़ 57 लाख लोगों को मदद का ज़रूरतमन्द बना दिया है.

भारी तबाही, बढ़ती ज़रूरतें

इस युद्ध के कारण, दूसरे विश्व युद्ध के बाद का सबसे ज़्यादा तेज़ विस्थापन संकट उत्पन्न हो गया है जिसमें लगभग एक करोड़ 30 लाख लोगों को बेघर होना पड़ा है.

70 लाख से ज़्यादा लोग देश के भीतर ही विस्थापित हुए हैं जबकि लगभग 52 लाख लोग सीमा पार करके पड़ोसी देशों में पनाह लेने पहुँचे हैं. सबसे ज़्यादा लोग पोलैण्ड पहुँचे हैं.

नगरी इलाक़ों में भारी विध्वंस और सिविल बुनियादी ढाँचे की तबाही होने के कारण, स्वास्थ्य देखभाल ढाँचे और अन्य अति महत्वपूर्ण सेवाओं में गम्भीर बाधा पहुँची है.

यूक्रेन में संयुक्त राष्ट्र के कार्यालय ने गत सप्ताह ख़बर दी थी कि युद्ध शुरू होने के बाद से, स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं पर लगभग 136 हमले दर्ज किये गए हैं जोकि इस वर्ष दुनिया भर में स्वास्थ्य क्षेत्र पर अभी तक हुए हमलों का लगभग 70 प्रतिशत है.

अति आवश्यक सहायता पहुँचाना

इस ताज़ा अपील से मिलने वाली राशि के ज़रिये लगभग 87 लाख लोगों की मदद की जाएगी जिनमें आधे से ज़्यादा महिलाएँ हैं.

मानवीय सहायता एजेंसियाँ विस्थापित लोगों को नक़दी सहायता का दायरा और पैमाना भी व्यापक कर रही हैं और मदद के ज़रूरतमन्द लोगों की संख्या पिछले तीन सप्ताहों के दौरान साढ़े 18 हज़ार से बढ़कर दो लाख 63 हज़ार से भी ज़्यादा हो गई है.

इस अपील में लोगों, लैंगिक समानता और संरक्षण को, सहायता कार्रवाई के केन्द्र में रखा गया है और इसमें जवाबदेही बढ़ाने और यौन शोषण व दुर्व्यवहार रोकने के उपाय भी शामिल किये गए हैं.

मानवीय सहायताकर्मी ये सुनिश्चित भी करेंगे कि उनका काम सिद्धान्तों पर आधारित, वास्तविक और सुलभ होने के साथ-साथ लैंगिक वर्गों और आयु समूहों के के लोगों के लिये उपलब्ध हो.

नेताओं के साथ मुलाक़ात

ये संशोधित अपील ऐसे समय में आई है जब यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश इस सप्ताह यूक्रेन और रूस के विदेश मंत्रियों और राष्ट्रपतियों के साथ मुलाक़ातें करने वाले हैं. 

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश सोमवार को अंकारा में, तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप अर्दोगान के साथ मुलाक़ात करने के बाद, रूस की यात्रा पर हैं.

संयुक्त राष्ट्र के उप प्रवक्ता फ़रहान हक़ ने न्यूयॉर्क में पत्रकारों को बताया कि एंतोनियो गुटेरेश ने अंकारा में राष्ट्रपति के साथ अपनी मुलाक़ात में, यूक्रेन युद्ध में तुर्की के कूटनैतिक प्रयासों को अपना समर्थन व्यक्त किया है.

फ़रहान हक़ ने कहा कि महासचिव और तुर्की के राष्ट्रपति ने अपना ये साझा उद्देश्य फिर दोहराया कि उनका मुक़सद जल्द से जल्द युद्ध समाप्त करवाना और आम लोगों की तकलीफ़ें ख़त्म करने के हालात उत्पन्न करना है. 

उन्होंने युद्ध के हालात में फँसे आम लोगों को सुरक्षित बाहर निकलने देने और प्रभावित समुदायों तक ज़रूरी सहायता पहुँचाने के लिये, मानवीय गलियारा बनाने की तत्काल ज़रूरत पर ज़ोर दिया.

यूएन महासचिव मंगलवार को मॉस्को में रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लैवरॉफ़ के साथ दोपहर का भोजन करेंगे और राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन उनका स्वागत करेंगे.

यूएन प्रमुख गुरूवार को यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा के साथ मुलाक़ात करेंगे और राष्ट्रपति वोलोदीमीर ज़ेलेन्स्की उनका स्वागत करेंगे.    

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश यूक्रेन में धरातल पर सक्रिय यूएन स्टाफ़ के साथ भी मुलाक़ात करेंगे और मानवीय सहायता बढ़ाने पर बातचीत करेंगे.

Share this story