यूएन प्रमुख की बारबेडॉस यात्रा - चुनौतियों से निपटने में युवजन की भागीदारी पर बल

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि वो यह सुनिश्चित करने के लिये प्रतिबद्ध हैं कि संगठन में युवाओं की आवाज़ों को सुना जाए और उनके सुझावों को अपनाया जाए.  यूएन प्रमुख कैरीबियाई देश बारबेडॉस के दौरे पर हैं, जहाँ व्यापार एवँ विकास के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र की एक अहम बैठक हो रही है. 

इस बैठक का उद्देश्य दुनिया में हरित अर्थव्यवस्था की दिशा में प्रयासों में तेज़ी लाना और कोविड-19 महामारी से न्यायसंगत ढँग से पुनर्बहाली है.  महासचिव गुटेरेश कैरीबियाई द्वीपीय देश, बारबेडॉस शनिवार को पहुँचे. 

सोमवार को व्यापार एवँ विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन की बैठक की थीम ‘विषमता और निर्बलता से सर्वजन के लिये समृद्धि’ (From inequality and vulnerability, to prosperity for all) रखी गई है.

कोविड-19 महामारी से उपजी चुनौतियों के मद्देनज़र यह बैठक मिलेजुले रूप में आयोजित की जा रही है, जिसमें कुछ नेतागण व्यक्तिगत रूप से शिरकत करेंगे, जबकि अन्य कार्यक्रम में वर्चुअली शामिल होंगे. 

बारबेडॉस की राजधानी ब्रिजटाउन में हो रही इस बैठक में केनया के राष्ट्रपति उहुरू केनयाटा का, वर्चुअल रूप से आरम्भिक सम्बोधन होगा. 

इसके बाद कार्यक्रम आयोजक और बारबेडॉस की प्रधानमंत्री मिया मोट्ली और यूएन एजेंसी की महासचिव रेबेका ग्रीनस्पान प्रतिनिधियों को सम्बोधित करेंगे. 

पुनर्बहाली, कर्ज़ पर ध्यान

इससे पहले, यूएन महासचिव के उप प्रवक्ता फ़रहान हक़ ने शुक्रवार को पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि एंतोनियो गुटेरेश अपने सम्बोधन में कर्ज़ के बोझ की चुनौती को रेखांकित करेंगे, ताकि सर्वजन के लिये एक टिकाऊ व न्यायसंगत पुनर्बहाली प्रक्रिया को गति प्रदान की जा सके.

यूएन प्रवक्ता के मुताबिक़ महासचिव गुटेरेश निर्धनतम देशों को लाभ पहुँचाने के लिये व्यापार व निवेश के इंजन में फिर से ऊर्जा भरने और वैश्विक हरित अर्थव्यवस्था के निर्माण की आवश्यकता को भी रेखांकित करेंगे. 

यूएन महासचिव ने अपने एक ट्वीट सन्देश में महासभा के 76वें सत्र के दौरान बारबेडॉस की प्रधानमंत्री मोट्ली के ओजपूर्ण सम्बोधन का उल्लेख किया है. 

सबसे निर्बलों की रक्षा

प्रधानमंत्री मोट्ली ने अपने भाषण में पुरज़ोर ढँग से विश्व भर में निर्बलों की रक्षा में निवेश किये जाने का आहवान किया था. 

महासचिव ने कहा कि इस द्वीपीय देश के लिये यह एक प्राथमिकता है और इसके लिये हम निरन्तर प्रयासरत रहेंगे.

यूएन प्रमुख ने अपनी यात्रा के दौरान अन्य सरकारी अधिकारियों से मुलाक़ात की है, और उनका बारबेडॉस में जलवायु प्रभावित इलाक़ों में जाने का भी कार्यक्रम है जहाँ वह भूमि क्षरण के असर का जायज़ा लेंगे.

महासचिव गुटेरेश, इस वर्ष 2 जुलाई को चक्रवाती तूफ़ान ऐल्सा से प्रभावित समुदाय से भी मिलेंगे.

यूएन प्रमुख बारबेडॉस के युवाओं से भी मुलाक़ात का कार्यक्रम है, जो कि जलवायु कार्रवाई से लेकर कोविड-19 पुनर्बहाली तक, विश्व की प्रमुख चुनौतियों से निपटने के लिये नवाचारी समाधानों को विकसित कर रहे हैं. 

Share this story