भोजन आधारित जोखिमों की रोकथाम व बेहतर स्वास्थ्य की ज़रूरत रेखांकित

संयुक्त राष्ट्र ने मंगलवार को चौथे ‘विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस’ के अवसर पर कहा है कि सुरक्षित भोजन, अच्छे स्वास्थ्य के लिये सर्वाधिक महत्वपूर्ण व निश्चित कारकों में से एक है. इस दिवस का उद्देश्य, खाद्य से सम्बन्धित जोखिमों की रोकथाम, उनका पता लगाना और उनसे निपटने के साथ-साथ, मानव स्वास्थ्य को बेहतर बनाना है.

बेहतर रहन-सहन के लिये सुरक्षित भोजन में बेहतर पोषण और स्कूलों व कामकाज के स्थलों से अनुपस्थिति का कम होना भी शामिल है.

खाद्य व कृषि संगठन (FAO) के अनुसार, जब भोजन सुरक्षित होता है, हम तभी इसके पोषण मूल्यों से; और एक सुरक्षित भोजन ख़ुराक खाने के मानसिक व सामाजिक फ़ायदों से पूरी तरह लाभान्वित हो सकते.

संगठन का कहना है, “असुरक्षित भोजन अनेक तरह की बीमारियों का कारण होता है और उसके कारण ख़राब स्वास्थ्य परिस्थितियाँ भी उत्पन्न होती हैं, जिनमें बाधित विकास व पोषण सम्बन्धी कमियाँ, ग़ैर-संचारी व संचारी बीमारियाँ और मानसिक रोग शामिल हैं.”

रोकी जा सकने वाली बीमारियाँ

दुनिया भर में हर साल, हर 10 में से एक व्यक्ति को, भोजन से सम्बन्धी बीमारियाँ प्रभावित करती हैं जिनमें डायरिया से लेकर कैंसर तक शामिल हैं. सौभाग्य से, इनमें से ज़्यादातर बीमारियों को होने से पहले ही रोका जा सकता है.

खाद्य प्रणालियों व आपूर्ति श्रृंखलाओं के निर्माण के तरीक़ों में सुधार लाकर संक्रामक और विषैले हादसे रोके जा सकते हैं, साथ ही माइक्रोबायल पैथोजैन्स (बैक्टीरिया, वायरस और पैरासाइट्स), रासायनिक अपशिष्ट, और बायोटॉक्सिन्स को भी, हमारे भोजन के बर्तनों में पहुँचने से रोका जा सकता है.

खाद्य व कृषि संगठन का कहना है, “हमें बेहतर स्वास्थ्य की ख़ातिर, अपनी खाद्य प्रणालियों में बदलाव करने होंगे, और हमें ये सब टिकाऊ तरीक़े से करना होगा.”

यूएन एजेंसी ने ये भी कहा है कि उपभोक्ताओं को, अपने घरों पर भोजन को सुरक्षित तरीक़े से संभालना और जानकार रहना होगा.

बेहतर रहन-सहन में भागीदार

यूएन महासभा ने विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस 2018 में शुरू किया था, और तब से खाद्य व कृषि संगठन (FAO) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) संयुक्त रूप से इस दिवस को मनाते रहे हैं, जिसमें सदस्य देशों व अन्य भागीदारों का भी सहयोग रहता है.

खाद्य व कृषि संगठन खाद्य सुरक्षा मुद्दों के साथ-साथ खाद्य उत्पादन और प्रसंस्करण के दौरान खाद्य श्रृंखलाओं को संभालता है, जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन, आमतौर पर सार्वजनिक स्वास्थ्य क्षेत्र के भीतर सम्बन्धों की निगरानी करता है. 

वर्ष 2022 का विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस ऐसे मौक़े पर पड़ा है जब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कुछ ही दिन पहले, खाद्य सुरक्षा के लिये ताज़ा-तरीन वैश्विक रणनीति अपनाई है. 

इस रणनीति को, स्वास्थ्य को प्रोत्साहन देने, विश्व को सुरक्षित रखने और कमज़ोर परिस्थितियों वाले लोगों के संरक्षण में, मील का पत्थर समझा जाता है.

Share this story