प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का, जनरल डिबेट को सम्बोधन

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने, संयुक्त राष्ट्र महासभा को सम्बोधित करते हुए अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से ये सुनिश्चित करने का आहवान किया है कि अफ़ग़ानिस्तान के मौजूदा नाज़ुक हालात का फ़ायदा, कोई अन्य देश, अपने स्वार्थी हित साधने के लिये ना कर सके. (भाषण का वीडियो यहाँ देखा जा सकता है).

नरेन्द्र मोदी ने, शनिवार को, यूएन महासभा के 76वें सत्र की उच्च स्तरीय जनरल डिबेट को सम्बोधित करते हुए कहा कि ये सुनिश्चित किया जाना बहुत ज़रूरी है कि अफ़ग़ानिस्तान की ज़मीन का इस्तेमाल, आतंकवाद फैलाने या आतंकी हमले करने के लिये ना हो.

भारत के प्रधानमंत्री ने ध्यान दिलाया कि अफ़ग़ानिस्तान में महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों सहित, तमाम लोगों को, तत्काल सहायता की ज़रूरत है.

उन्होंने जोर देकर कहा कि अन्तरराष्ट्रीय समुदाय को अपना कर्तव्य पूरा करते हए, उन्हें ये सहायता अवश्य मुहैया करानी होगी.

आतंकवाद का मुद्दा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि दुनिया, आज अतिवाद व प्रतिगामी सोच के बढ़े हुए जोखिम का सामना कर रही है.

उन्होंने आगाह करते हुए कहा कि जो देश आतंकवाद को एक राजनैतिक औज़ार के रूप में इस्तेमाल करते हैं, उन्हें यह समझना होगा कि आतंकवाद, ख़ुद उनके लिये भी उतना ही गम्भीर ख़तरा है.

हाइड्रोजन हब

उन्होंने जलवायु मुद्दे का ज़िक्र करते हुए कहा कि उनका देश भारत, दुनिया का सबसे बडा हरित हाइड्रोजन हब बनने की दिशा में अग्रसर है. 

उन्होंने विश्व नेताओं का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा, “हम अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिये जवाबदेह हैं, जब वो पूछेंगी कि जब निर्णय लेने का समय था तो, हम लोग क्या कर रहे थे, वो लोग जिनकी ज़िम्मेदारी दुनिया को एक दिशा देने की थी.”

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि भारत एकीकृत व समान विकास के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है. 

उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि विकास, सम्पूर्ण समावेशी, व्यापक दायरे वाला, सार्वभौमिक और ऐसा होना चाहिये जिससे सभी का भला हो.

उन्होंने कहा, “आज, दुनिया में हर छठा व्यक्ति एक भारतीय है. जब भारतीय लोग प्रगति करते हैं तो, इससे दुनिया के विकास में भी बढ़त मिलती है. भारत आगे बढ़ता है, तो विश्व आगे बढ़ता है. जब भारत में सुधार होते हैं तो, विश्व में भी बदलाव होते हैं.”

भारतीय प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत 450 गीगावाट अक्षय उर्जा उत्पादन के लक्ष्य की दिशा में तेज़ी से आगे बढ़ रहा है. 

उन्होंने कहा कि उनके देश में पिछले सात वर्षों के दौरान, लगभग 43 करोड़ लोगों को, देश की बैंकिग व्यवस्था में शामिल किया गया है, और लगभग 50 करोड़ लोगों को, अस्पतालों में मुफ़्त इलाज के ज़रिये, गुणवत्ता वाली स्वास्थ्य सेवाएँ उपलब्ध हैं.

विज्ञान व टैक्नॉलॉजी नवाचार

नरेन्द्र मोदी ने, भारत में विज्ञान और टैक्नॉलॉजी नवाचार की अहमियत पर ज़ोर दिया , जिसका दुनिया भर में महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है.

उन्होंने ध्यान दिलाया कि भारत, सीमित संसाधनों के बावजूदू, वैक्सीन अनुसन्धान, विकास व उपादन के लिये व्यापक प्रयास कर रहा है.

प्रधानमंत्री न कहा, “मैं यूएन महासभा को सूचित करना चाहूँगा कि भारत ने दुनिया की पहली डीएनए वैक्सीन विकसित कर ली है. और इस वैक्सीन का टीका, 12 वर्ष से ज़्यादा उम्र के किसी भी व्यक्ति को लगाया जा सकता है.”

“एक अन्य वैक्सीन एमआरएनए भी विकसित होने के अन्तिम चरण में है. भारत के वैज्ञानिक, कोरोनवायरस की एक ऐसी वैक्सीन विकसित करने पर भी काम कर रहे हैं जिसे नाक के ज़रिये दिया जा सकता है.”

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उनके देश ने, दुनिया भर में ज़रूरतमन्दों को वैक्सीन मुहैया कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. 
उन्होंने वैक्सीन निर्माताओं को, भारत में आकर वैक्सीन उत्पान करने के लिये आमंत्रित भी किया है.

Share this story