कोसोवो व सर्बिया के बीच सम्बन्ध सामान्य करने के लिये और ज़्यादा वार्ता की ज़रूरत

कोसोवो में संयुक्त राष्ट्र के अन्तरिम प्रशासन मिशन (UNMIK) की प्रमुख कैरोलीन ज़ियादेह ने बुधवार को सुरक्षा परिषद में कहा है कि कोसोवो और सर्बिया को, योरोपीय संघ (EU) की मध्यस्थता वाली बातचीत में, और ज़्यादा सक्रियता से शिरकत करनी होगी.

संयुक्त राष्ट्र की विशेष प्रतिनिधि के रूप में कैरोलीन ज़ियादेह का, सुरक्षा परिषद को यह पहला अर्द्धवार्षिक सम्बोधन था.

उन्होंने कहा, “एक तरफ़ तो इस प्रक्रिया ने विभिन्न धरातलीय मामलों पर सार्थक नतीजे दिये हैं, मगर फिर भी दोनों पक्षों के बीच व्यापक स्तर पर सम्बन्धों का सामान्य बनना, अब भी एक भुलावा नज़र आ रहा है.”

कैरोलीन ज़ियादेह का कहना था कि मेल-मिलाप की भावना को मज़बूत करना और अतीत की शिकायतों व शिकवों को हल करना, महत्वपूर्ण रणनैतिक उद्देश्यों का हिस्सा होना चाहिये.

सहनशीलता अति महत्वपूर्ण

विशेष प्रतिनिधि ने यूक्रेन में मौजूदा स्थिति और योरोपीय सुरक्षा व अर्थव्यवस्था पर उसके जारी प्रभाव का ध्यान करते हुए रेखांकित किया कि सभी बाल्कन देशों में लोकतांत्रिक संस्थाओं की सहनशीलता विकसित करना, एक सुरक्षित व लोकतांत्रिक योरोप बरक़रार रखने के लिये बहुत अहम है.

उन्होंने कोविड-19 महामारी के प्रभावों को रेखांकित करते हुए कहा कि अलबत्ता, कोसोवो की अर्थव्यवस्था को झटके तो, मौजूदा संघर्ष की शुरुआत से भी बहुत पहले बन रहे थे.

“इस सन्दर्भ में, सर्बिया, कोसोवो और क्षेत्र के तमाम पड़ोसी देशों के बीच, आर्थिक सहयोग के वास्तविक तरीक़े तलाश करना एक अति महत्वपूर्ण तात्कालिकता है.”

सर्बियाई चुनाव

विशेष प्रतिनिधि की सहयोग की ये पुकार ऐसे समय में आई है जब सर्बिया में आम चुनाव होने वाले हैं.

अन्तरिम प्रशासन मिशन की मुखिया ने दोनों देशों द्वारा उस शान्तिपूर्ण व्यवस्था का स्वागत किया जिसके तहत, 19 हज़ार योग्य मतदाताओं को, सर्बिया में बनाए गए विशेष मतदान केन्द्रों में मतदान की सुविधा दी जाएगी.

अलबत्ता, कोसोवो में मतदाताओं की भागादारी सम्भव बनाने के लिये कोई समाधान नहीं निकल सका है, जोकि खेद की बात है.

दण्ड मुक्ति को नकारें

कैरोलीन ज़ियादेह ने हाल ही में कोसोवो पुलिस को निशाना बनाकर किये गए हमलों की ख़बरों के सन्दर्भ में, सामूहिक निन्दा किये जाने और ज़िम्मेदार तत्वों को न्याय के कटघरे में लाने के लिये त्वरित कार्रवाई किये जाने का आग्रह किया है.

उन्होंने दोनों देशों से वाहनों की लाइसेंस प्लेटों और ऊर्जा से सम्बन्धित मुद्दों का कोई स्थाई समाधान तलाश किये जाने का भी आग्रह किया है.

इन जटिल समय चरणों में, विशेष प्रतिनिधि ने तमाम नेतृत्वकर्ताओं से, अपनी कार्रवाइयों और राजनैतिक बनानबाज़ी में, न्यायसंगत बर्ताव करने का भी आहवान किया है.

मिशन की समर्थन विरासत

संयुक्त राष्ट्र की वरिष्ठ अधिकी ने स्पष्ट किया कि कोसोवो में अन्तरिम प्रशासन मिशन की भूमिका, किसी एक या दूसरे पक्ष द्वारा पसन्द किये जाने वाले परिणामों के लिये, ना तो बाधक की है और ना ही वाहन की.

उन्होंने कहा कि इसके बजाय मिशन संस्थागत सहायता व समर्थन मुहैया कराने की अपनी विरासत जारी रखे हुए है जिसमें कोसोवो के तमाम निवासों के लिये एक शान्तिपूर्ण और सामान्य जीवन के हालात सुनिश्चित करने के लिये, यूएन एजेंसियों, कोषों और कार्यक्रमों के परिवारों के बीच तालमेल के साथ काम करना शामिल है.

“UNMIK प्रासंगिक जानकारी, अनुभव और सम्बन्धित क्षेत्र की विशेषज्ञता के लिये स्थानीय केन्द्र बना हुआ है...जिसमें सक्रिय सिविल सोसायटी को समर्थन देना, विधि का शासन मज़बूत करने में कोसोवो की मदद करने लिये नए उपकरणों को बढ़ावा देना, और विशेषज्ञता व समर्थन के ज़रिये, महिलाओं और युवाओं के सशक्तिकरण में योगदान करना शामिल हैं.”

Share this story